Shaayari from ZNMD

1 – After the deep sea dive

पिघले नीलम सा बहता हुआ यह समा, नीली नीली सी खामोशियाँ
न कहीं है ज़मीन, न कहीं आसमान
सरसराती हुई टहनियां … पत्तियाँ
कह रही है की बस एक तुम हो यहाँ
सिर्फ मैं हूँ, मेरी सांसें है और मेरी धडकनें
ऐसी गहराईयां, ऐसी तनहाईयाँ और में , सिर्फ मैं
अपने होने पे मुझे यकीन आगया

Pighlae neelam sa behtaa hua yeh sama
Neeli neeli si khaamoshiyaan
Na kahiin hai zameen
Na kahiin aasmaan
Sar saraati hui tehniyaan… pattiyaan
Keh rahi hai ki bas ek tum ho yahaan
Sirf main hoon
Meri saansen hai aur meri dhadkanen
Aisi gehraayiyaan
Aisi tanhaayiyaan
Aur main… Sirf main
Apne honae pae mujhko yakeen aa gaya

2 – After meeting Imran’s biological dad

जब जब दर्द का बादल छाया
जब घम का साया लहराया
जब आसूं पलकों तक आया
जब यह तन्हा दिल घबराया
हमने दिल को यह समझाया
दिल आखिर क्यों रोता है
दुनिया में यूं ही होता है
यह जो गहरे सन्नाटे है
वक़्त ने सब को ही बांटे हैं
थोडा ग़म है सबका किस्सा
थोड़ी धुप है सबका हिस्सा
आँख तेरी बेकार ही नम है
हर पल एक मौसम है
क्यूँ तू ऐसे पल खोता है
दिल आखिर तू क्यूँ रोता है?

Jab jab dard ka baadal chaaya
Jab hum ka saayaan lehraaya
Jab aansoon palkon tak aayaa
Jab yeh tanha dil ghabraaya
Humne dil ko yeh samjhaaya
Dil aakhir tu kyuun rota hai
Duniya mein yuun hi hota hai
Yeh jo gehren sannaatae hain
Waqt ne sab ko hi baantae hain
Thoda gham hai sabka kissa
Thodi dhoop hai sabka hissa
Aankh teri bekaar hi nam hai
Har pal ek nayaa mausam hai
Kyun tu aisae pal khota hai
Dil aakhir tu kyuun rota hai

3 – Bull run

दिलों में तुम अपनी बेताबियाँ लेके चल रहे हो,
तो जिंदा हो तुम
नज़र में ख्वाबों की बिजिलियाँ लेके चल रहे हो,
तो जिंदा हो तुम
हवा के झोंकों के जैसे आजाद रहना सीखों
तुम एक दरियां की जैसे लहरों में बहना सीखों
हर एक लम्हे से तुम मिलो खोलें अपनी बाहें
हर एक पल एक नया समा देखे यह निगाहें
जो अपनी आँखों में हैरानियाँ लेके चल रहे हो
तो जिंदा हो तुम
दिलों में तुम अपनी बेताबियाँ लेके चल रहे हो
तो जिंदा हो तुम

Dilon mein tum apni betaabiyaan laekae chal rahe ho
toh zinda ho tum
Nazar mein khwaabon ke bijliyaan laekae chal rahe ho
toh zinda ho tum
Hawa kae jhonkon ke jaise aazaad rehnaa seekho
Tum ek dariyaa ke jaise lehron mein behna seekho
Har ek lamhe se tum milo kholae apni baahein
Har ek pal ek naya sama dekhe yeh nigaahen
Jo apni aankhon mein hairaaniyaan laekae chal rahe ho
toh zinda ho tum
Dilon mein tum apni betaabiyaan laekae chal rahe ho
toh zinda ho tum

By Javed Akhtar Saab

Advertisements